आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

सोमवार, 29 अप्रैल 2013


  • भारतीय संसद कमजोरों का अड्डा बन चुकी है ..सरकार इतनी निकम्मी है की देश को लूटने और खुद को बचाने में लगी हुयी है ...ऐसे में पकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका और यहाँ तक की अब नेपाल भी भारत को घुड़की दे रहा है ....जिसका परिणाम ये है की भारत की इस कमजोरी का फायदा उठाकर चीन भारत की सीमा में घुस आया है और उसकी दादागिरी से भारतीय संसद डरी हुयी है.....नामर्द नेताओं के कारण ...........ये है समस्या ...
    एक भारतीय नागरिक होने के कारण हमारे भी देश के प्रति कुछ कर्तव्य बनते हैं.....पहला कर्तव्य तो यही बनता है की हम चीनी सामानों का विरोध करें और उसका बहिष्कार करें...............
    दूसरा ये कि अगर संभव हो तो हर रोज अपने सांसद और प्रधानमन्त्री तथा राष्ट्रपति को एक पोस्टकार्ड लिखकर इस समस्या का जबाब मांगे ....
    दो कदम देश के लिए बढाईये.........जब हम सुधरेंगे तभी देश के हालात सुधरेंगे .....

1 टिप्पणी:

Anurag Sharma ने कहा…

आज से पहले शायद ही कोई सरकार अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य में भारत को इतना कमजोर दिखा पाई होगी।