आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

मंगलवार, 11 मई 2010

कलम के गद्दारों को जिन्दा गड़वा दो

मानवता की धमनी में जब
जाति धर्म का विष बहता हो
छोड़ गरीबों की चिंता
पूंजीवादी पुराण को बाचाता हो


संविधान का अम्बेडकर जब
सडकों पर जूता सिलता हो
आजादी का भगत सिंह जब
कूड़े का जूठा पत्तल चाटता हो

माथे की बिंदी हिंदी ही जब
घर की बनवासिनी सीता हो
इस शासन की कुशासन से
त्राहि त्राहि करती जनता हो


हंसों के आगे जब भारत में
बगुलों का अभिनन्दन होता
राष्ट्रभक्त पाता फाँसी
गद्दारों का वंदन होता


जब धन पशुओं के आगे
सांसद बन जाये कठपुतली
क्यों ना देश का बच्चा-बच्चा
उगले आंधी पानी और बिजली

जब कलम का पुजारी ही
शासन के टुकड़ों का भूखा हो
तब क्यों ना क्रांति की दुन्दुभी बजे
क्यों ना छंदों का एटम बम फूटे

भ्रष्टाचार भाजता लाठी
सुरषा सी बढ़ती मंहगाई
इन्कलाब की स्याही ले
क्यों ना कलम ले अंगडाई

डाकू तो डाकू होता है
दरबार बदलने से क्या होगा
जहाँ लोक ही बिकता हो
उस लोकतंत्र का क्या होगा

लाना है यदि इन्कलाब तो
कलम के गद्दारों को जिन्दा गड़वा दो
शासन परिवर्तन पीछे है
गद्दारों को फाँसी पर चढवा दो।

रत्नेश त्रिपाठी

19 टिप्‍पणियां:

सुनील दत्त ने कहा…

राष्ट्रभक्त पाता फाँसी
गद्दारों का वंदन होता
रत्नेश जी आपने इन दो पंक्तियों में भारत की असली समस्या पर हाथ रख दिया।और अगली दो पंक्तियों में समाधान भी बता दिया


लाना है यदि इन्कलाब तो
कलम के गद्दारों को जिन्दा गड़वा दो

बस अब अमल करना है हमें मिलकर

सुनील दत्त ने कहा…

वो कौन हैं जो इस देसभक्ति से ओतप्रोत कबित को पढ़ तो रहे हैं पर टिप्पणी से बच रहे हैं कहीं ये वही तो नहीं

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

अति सुन्दर...
जय हिंद
वन्दे मातरम्

kunwarji's ने कहा…

"क्यों ना देश का बच्चा-बच्चा


उगले आंधी पानी और बिजली"

क्या बात है जी!

जबरदस्त वाली बात है जी ये तो....

जय हिंद!




कुंवर जी,

दिलीप ने कहा…

rongte khade kar diye aapne....

zeal ने कहा…

Mindblowing !

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर बात कही आप ने.....
शासन परिवर्तन पीछे है
गद्दारों को फाँसी पर चढवा दो।

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

लाना है यदि इन्कलाब तो
कलम के गद्दारों को जिन्दा गड़वा दो
शासन परिवर्तन पीछे है
गद्दारों को फाँसी पर चढवा दो।


gazab ..sampoorn rachna ..prabhaavshali .....bahut khoob

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

डाकू तो डाकू होता है
दरबार बदलने से क्या होगा
जहाँ लोक ही बिकता हो
उस लोकतंत्र का क्या होगा

भारतीय लोकतन्त्र की तल्ख हकीकत!
लाजवाब रचना!
जय हिन्द्!

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

देशभक्ति से ओतप्रोत बढ़िया रचना

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

कविता की भावना तो सुन्दर और देशप्रेम से भरपूर है.

aarya ने कहा…

आप सभी का अभिनन्दन!
यही हौसलाफजाई हमें निरंतर सत्य लिखने की प्रेरणा देता है.
रत्नेश

वन्दना ने कहा…

लाजवाब रचना!

arvind ने कहा…

मानवता की धमनी में जब
जाति धर्म का विष बहता हो
छोड़ गरीबों की चिंता
पूंजीवादी पुराण को बाचाता हो......जय हिंद .

डाकू तो डाकू होता है
दरबार बदलने से क्या होगा
जहाँ लोक ही बिकता हो
उस लोकतंत्र का क्या होगा .......वन्दे मातरम्

लाना है यदि इन्कलाब तो
कलम के गद्दारों को जिन्दा गड़वा दो
शासन परिवर्तन पीछे है
गद्दारों को फाँसी पर चढवा दो। .....अभिनन्दन

नरेश सोनी ने कहा…

गजब हो भाई जी आप भी।
इतनी आक्रामकता पहली बार पढ़ी।
आपका अभिनंदन..
क्रांतिकारी रचना के लिए।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Sach hai .. paseena bahana hoga .. lahoo dena hoga ... yadi bhaarat maa ka maan rakhna hai ...

दीर्घतमा ने कहा…

BANDEMtRm .
preranaspad kabita hai .
bahut acchha laga.
Jai shriRam

आशीष/ ASHISH ने कहा…

Oajpoorn! Pravahmayee....
Jai Hind!

'उदय' ने कहा…

...बहुत खूब .... बेहतरीन !!!