आपका हार्दिक अभिनन्‍दन है। राष्ट्रभक्ति का ज्वार न रुकता - आए जिस-जिस में हिम्मत हो

गुरुवार, 24 जून 2010

चलो जन्मदिन कुछ ऐसे मनाया जाये !

सभी ब्लागर वाशियों को सादर नमस्कार !
जब सभी तरह के विचार हम आपस में बांटते है तो ये जरुरी लगा कि मेरे इस जन्मदिन कि ख़ुशी भी मै आप सबके साथ बांटू | अपनी इस रचना के साथ !

चलो जन्मदिन कुछ ऐसे मनाया जाये
किसी रोते को हँसाया जाये
किसी के गम को भुलाया जाये
काम मुस्किल है नामुमकिन नहीं है साथी
चलो आज किसी अपाहिज कि बने बैसाखी
फिर तो आज दिन भी अनमोल है तेरे जीवन का
चलो आज नई सुबह में रौशनी फैलाया जाये | कि चलो आज जन्मदिन .......

ना जाने कितने रोज गिरते हैं मजबूरियों से
चलो उनमे से कुछ को उठाया जाये
उनके दर्द उनके गम उनके दुख को समझें
प्यार दे के उनके दर्द को बांटा जाये | कि चलो जन्मदिन ............

आज जब लोग मतलब के लिए मिलते हैं
आज जब लोग दिखावे के लिए खिलते हैं
ऐसे में उनको भी कोई राह दिखाया जाये
कि चलो आज सच में जन्मदिन मनाया जाये | कि चलो आज जन्मदिन .......

रत्नेश त्रिपाठी

16 टिप्‍पणियां:

Etips-Blog Team ने कहा…

जन्मदिन मुबारक हो
HAPPY BIRTHDAY

sidheshwer ने कहा…

हैप्पी बड्डे भैया!

वन्दना ने कहा…

वाह वाह्…………।बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना।
जन्मदिन की हार्दिक बधाई।

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई जी, अब जल्दी से केक का एक पीस हमे भेज दो, या बताओ कहां मना रहे हो हम आ जाते है केक के संग काफ़ी का स्वाद भी लेलेगे

दीर्घतमा ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ,
जन्म दिन पर हार्दिक बधाई
बहुत-बहुत धन्यवाद
रत्नेश जी को
नमस्ते

दीर्घतमा ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ,
जन्म दिन पर हार्दिक बधाई
बहुत-बहुत धन्यवाद
रत्नेश जी को
नमस्ते

Shah Nawaz ने कहा…

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं. चलो अब जन्मदिन मनाया जाए?

aarya ने कहा…

सभी का धन्यवाद !
राज जी, आप दिल्ली आयें केक तो नहीं मिठाई जरुर खिलाऊंगा | आपके इस अनुराग भरे सन्देश के लिए धन्यवाद !
रत्नेश त्रिपाठी

mridula pradhan ने कहा…

achchi rachna.

सुनील दत्त ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ,
जन्म दिन पर हार्दिक बधाई

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं!

राम त्यागी ने कहा…

जन्मदिन कि बधाइयां

बेनामी ने कहा…

http://bhandafodu.blogspot.com/2010/06/blog-post_27.html

इस पोस्ट को प्रसारित करनें की आवश्यकता है

singhsdm ने कहा…

आपकी इस रचना को पढ़ कर निदा साहब की ये पंक्तियाँ जेहन में बरबस कुलांचे मारने लगीं....
घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए.
बहुत खूब नसीहत दी है आपने काश की लोग इसे समझ सकें ......!

कविता रावत ने कहा…

ईश्वर सदा खुश रखे आपको जीवन की हर तन्हाईयों से
जन्मदिन मुबारक हो हमारे मन मन की गहराईयों से

Vivek VK Jain ने कहा…

sundar rachna!